रेकी के नियम

ब्ीव.ज्ञन.त्म ;चो.कू.रेद्ध रंग: सफेद ;ब्वसवनत दृ ॅीपजमद्ध शक्त्ति को ईक्कठा करने के लिए ;म्दमतहल ब्वदबमदजतंजपवद ैलउइवसद्ध शक्ति चिन्ह (च्वूमत ैलउइसम)

रेकी के नियम

1 रेकी करने से पहले और बाद में हाथ जरुर धोयें। 2 रेकी में हर बात कम से कम तीन बार बोलें। 3 रेकी सिंबल को एक बार बनाते हैं परन्तु नाम तीन बार लिया जाता है जैसे चो-कु-रे, चो-कु-रे, चो-कु-रे। 4 शुद्विकरण करना (च्नतपपिबंजपवद) घडी़ से उलटी चाल (।दजप ब्सवबाूपेम ) में किया जाता है 5 चार्ज ;ब्ींतहमद्ध घडी़ की सीधी चाल(ब्सवबाूपेम) में किया जाता है।

रेकी के पड़ाव

  1. चो-कू-रे का आवाह्म करना और शुद्ध करना।
  2. चो-कू-रे का आवाह्म करना और चार्ज करना।
  3. चो-कू-रे और दुसरे चिन्हों (ैलउइवसे) का आवाह्म करना और रेकी करना।
  4. जिस स्थान/चक्र की रेकी की गई है, के सारे विकारों के लगातार उपचार के लिये रेकी ऊर्जा को स्थापित करना।
  5. दिव्य शक्तियों का धन्यवाद करना।
  6. बल्लैस और कट करने के पश्चात हाथ धोने (यदि अपनी रेकी की है तो बल्लैस और कट करने की जरूरत नहीं)। अभ्यास पण् चो-कू-रे बनायें, घड़ी की उल्टी चाल में 5-7 बार हाथ घूमाते हुए शुद्ध है, शुद्ध है, शुद्ध है, कह कर शुद्ध (चनतपलि) करें पपण् फिर चो-कू-रे बनायें, घड़ी की सीधी चाल से 5-7 बार हाथ को घुमाते हुए, चार्ज है, चार्ज है, चार्ज है कहें और चार्ज करें। पपपण् फिर चो-कू-रे बनायें, हाथ को घड़ी की सीधी चाल में घुमाते हुए रेकी करें। पअण् स्थापित करें अर्थात मैं इस रेकी ऊर्जा को लगातार उपचार के लिए स्थापित करता हूँ/करती हूँ, स्थापित हो, स्थापित हो, स्थापित हो। 7 किसी की रेकी ;व्इरमबजपअम त्मपापद्ध करने के बाद (ठसमेे – ब्नज) बल्लैस और कट जरुर करना है। खुली हथेलियों को तीन बार नाभि के ऊपर, एक दूसरी के विपक्ष ऊपर नीचे करें। 8 नित्य क्रम जरुर करें और तीनों सिंबलों ;ैलउइवसेद्ध को जल में स्थापित करके जल जरुर पिओ। 9 चो.कू.रे एक छोटे बच्चे की तरह है। एक बार में एक ही काम करता है। यह रेकी की क्रिया पहली और दुसरी डिग्री वालों के लिए है। इसमें दी गयी क्रियाओं को तथा पहले सिंबल चो-कु-रे की क्रिया का अभ्यास लगातार 21 दिनों तक करना है। उस के बाद दुसरा सिंबल से-हे-की है, उस पर भी लगातार 21 दिनों का अभ्यास करना है। फिर तीसरा सिंबल होन-शा-जे-शो-नैन मिलता है जिसे प्राप्त करने के बाद भी 21 दिनों का अभ्यास शेष होता हैं। इन 63 दिनों के अभ्यास की क्रिया को करने से आपके अन्दर बदलाव आयेगा, जिसको आप महसूस करेंगें। पहले 21 दिनों के बाद ही आपके बदलाव की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी।
पहला सिंबल अभ्यास का समय समय चो-कु-रे 21 दिन लगातार 30-40 मिनट प्रतिदिन दुसरा सिंबल अभ्यास का समय समय से-हे-की 21 दिन लगातार 30-40 मिनट प्रतिदिन तीसरा सिंबल अभ्यास का समय समय होन-शा-जे-शो-नैन 21 दिन लगातार 30-40 मिनट प्रतिदिन

Leave a Reply

X